दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

Friday, October 10th, 2014

हिन्दू धर्म संस्कृति में अनेकानेक त्योहार मनाएं जाते हैं इन त्योहारों में से एक दीप एवं उत्साह का त्योहार दीपावली पर आप और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएं।

धनत्रयोदशी के दिन भगवान धनवन्तरी जो आरोग्य के देवता हैं उनकी पूजा की जाती है, नरकासुर संहार नरक चतुर्दशी का दिन जो असुरों की समाप्ति का दिन है। दीपावली के दिन पूरा देश लक्ष्मी पूजन करके अपना धन-धान्य आरोग्य ऐश्वर्य लक्ष्मी जी की कृपा से बढ़ाता है। बलि प्रतिपदा और यम द्वितीया (भैया दूज) एवं गोपाष्टमी अर्थात् गोपूजा का दिन] यह 6 दिन हमारी हजारों वषों की परम्परा में उत्सव एवं पूजा के दिन है।

क्या इस गोपाष्टमी को हम संकल्प कर सकते हैं\ कि हम गोमाता को बचायेंगे प्रतिदिन गोग्रास या गोग्रास के लिए कम से कम एक रूपया निकालेंगे। गाय के गोमूत्र] गोबर और पंचगव्य से निर्मित साबुन, सैम्पू, क्रीम, हैयर जेल, फेशपेस्ट, टुथ पेस्ट जैसी चीजों का उत्पादन अनेक गोशालाएं करती हैं क्या अपने परिवार में इन्हीं चीजों का उपयोग करने का संकल्प कर सकते हैं।

हमारे बच्चों को तो भगवान खाना दे रहे हैं पर जिनके बच्चे भूखें रहते हैं, जिन्हें इस दीपावली के त्यौहार में अन्न, मिठाई, पटाके नहीं मिलता है उनमें से कम से कम एक परिवार में हम देने का संकल्प कर सकते हैं।

इस दीपावली के निमित्त एक अनुसूचित जाति/ जनजाति के परिवार को हिन्दू परिवार मित्र बनाकर हम उनके घर जायें, वह हमारे घर आवें, एक दूसरे के घर भोजन करें एक दूसरे के सुख-दुःख में खड़े रहे तो देश में ऊँच-नीच छूआ छूत की समस्या समाप्त हो जाएगी।
पुनः आपके परिवार को भगवान धन-धान्य आारोग्य दे ऐसी शुभकामनाएं।

आपका ( डॉ प्रवीण तोगडि़या ) कार्याध्यक्ष

Leave a Reply

*