श्रीराम जय राम जय जय राम, শ্ৰীৰাংজয়ৰাংজয়জয়ৰাং, শ্রীরাম জয় রাম জয় জয় রাম , શ્રીરામ જય રામ જયજય રામ, ಶ್ರೀರಾಮಜಯರಾಮಜಯಜಯರಾಮ, ശ്രിറാം ജയ് റാം ജയ്‌ ജയ് റാം, శ్రీరాంజయరాంజయజయరాం

विवादित ढांचे को मस्जिद कहना न्यायालय का अपमान : सिंहल

Dainik Jagaran Nov 19, 2010

अयोध्या, विश्व हिन्दू परिषद के अध्यक्ष अशोक सिंहल ने शुक्रवार को यहां कहा कि छह दिसम्बर 1992 को तोड़ा गया विवादित ढांचा बाबर का विजय स्मारक था। उसे मस्जिद कहना न्यायालय की अवमानना है।

सिंहल हनुमत शक्ति जागरण महायज्ञ के उपरांत कारसेवकपुरम में आयोजित धर्मसभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि रामजन्मभूमि श्रीरामलला की पावन प्राकट्य स्थली है। शेष 67 एकड़ विशाल अधिग्रहीत परिसर उनकी क्रीड़ा स्थली है। केन्द्र सरकार द्वारा श्रीराम को काल्पनिक बताना तथा शंकराचार्य को जेल में डालना हिन्दुत्व का अपमान है।

धर्मसभा की अध्यक्षता करते हुए ज्योतिष्पीठ के शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानन्द सरस्वती ने कहा कि समूची अयोध्या मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की क्रीड़ास्थली है। मंदिर भी उनकी ही कृपा से बनेगा। उन्होंने कहा कि आगामी रामनवमी से पूर्व श्रीराम की जन्मभूमि पर उनके भव्य मंदिर का निर्माण आरंभ होने के संकेत हैं।

विहिप के महामंत्री डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया ने कहा कि कुछ लोगों को भगवा वस्त्र व झंडे में आतंकवाद दिखाई दे रहा है। लगता है ऐसा कहने वाले देश के गृहमंत्री का चश्मा पाकिस्तान से आयातित है। उन्होंने कहा कि राममंदिर निर्माण का हमारा संकल्प पूरा हो गया होता तो न ही कश्मीर पर गिलानी व उमर अब्दुल्ला जैसे लोग अपना राग अलापते और न ही भगवा आतंकवाद कहा जाता। उन्होंने कहा कि अयोध्या की शास्त्रीय सीमा के अन्दर कोई भी नई मस्जिद नहीं बनने देंगे, इसके लिए चाहे जा भी कुर्बानी देनी पड़े। श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास ने कहा कि मंदिर के आसपास मस्जिद का निर्माण उचित नहीं होगा। डॉ.रामविलास दास वेदांती ने कहा कि रामजन्मभूमि किसी अखाड़े की सम्पत्ति नहीं है, रामलला की है।

धर्मसभा में अशर्फी भवन पीठाधीश्वर जगद्गुरु रामानुजाचार्य स्वामी श्रीधराचार्य, दिगम्बर अखाड़ा के महंत सुरेश दास, अयोध्या संत समिति के अध्यक्ष महंत कन्हैया दास, महंत रामजी दास, सियाराम किला के महंत प्रभंजनानन्द शरण, सद्गुरु सदन के महंत सियाकिशोरी शरण, महंत रामशंकर दास रामायणी, महंत राममिलन दास रामायणी, हनुमानगढ़ी के पुजारी राजू दास, महंत राघवेश दास वेदांती, महंत राममंगल दास, महंत रामगोविन्द दास, गुरुद्वारा ब्रह्माकुण्ड के मुख्यग्रंथी ज्ञानी गुरजीत सिंह, महंत वागीश शरण आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे। आभार ज्ञापन विहिप के नगर अध्यक्ष महंत बृज मोहन दास ने किया। कार्यक्रम में हजारों लोगों ने भाग लिया।