श्रीराम जय राम जय जय राम, শ্ৰীৰাংজয়ৰাংজয়জয়ৰাং, শ্রীরাম জয় রাম জয় জয় রাম , શ્રીરામ જય રામ જયજય રામ, ಶ್ರೀರಾಮಜಯರಾಮಜಯಜಯರಾಮ, ശ്രിറാം ജയ് റാം ജയ്‌ ജയ് റാം, శ్రీరాంజయరాంజయజయరాం

बाबा बूढ़ा अमरनाथ यात्रा 2014

31 जुलाई 2014 | जम्मू शहर से उत्तर-पश्चिम में 290 कि.मी. दूर पंुछ जिले की मण्डी तहसील के ग्राम राजपुरा स्थित लोरेन घाटी में समुद्र तल से 4500 फीट की ऊँचाई पर बाबा बूढ़ा अमरनाथ चट्टानी के नाम से पुलस्ती नदी के बायें तट पर प्रसिद्ध स्थान है। मंदिर में स्थित शिवलिंग श्वेत चकमक (स्फटिक) पत्थर का है जो बर्फ की तरह ही चमकता है। यहाँ से पीर-पंजाल की बर्फीली चोटियाँ दिखाई देती हैं। 1965 में जब भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध हो रहा था तब पाकिस्तानी सेना ने कब्जा करके इस शिवलिंग को तोड़ने का प्रयास किया था किन्तु वे सफल नहीं हो सके और शिव कृपा से विजयश्री भारतीय सेना को मिली। जम्मू कश्मीर मे बढ़ रहे आतंकवाद और अलगवाद के कारण यह यात्रा पूर्णरूप से बंद हो गई थी | वर्ष 2005 में बजरंग दल ने यात्रा को पुनः प्रारम्भ एव संचालन के लिए पहल की ।

bamarnath1जम्मू से सुन्दरबनी, नौशेरा, राजौरी, स्वर्णकोट (सुरनकोट), चण्डक होते हुए मण्डी अथवा चण्डक से पुंछ होकर मंडी का मार्ग है। सम्पूर्ण मार्ग अत्यन्त दुर्गम और आतंकवाद से ग्रस्त है। पूरे रास्ते में घने जंगल है, आतंकवादियों के ठिकाने हैं। सायंकाल 4.00 बजे के बाद इस मार्ग पर यातायात रोक दिया जाता है और प्रातः 5.00 बजे तब खुलता है जब सेना का बम निरोधक दस्ता पूरे मार्ग का निरीक्षण कर लेता है। मार्ग पाकिस्तान सीमा से सटकर जाता है। उस पर पाक की नजरें हैं। सम्पूर्ण क्षेत्र आतंकवादियों का अड्डा है। नौशेरा, राजौरी और पुंछ से भी हिन्दुओं को भगाने का षडयंत्र चल रहा है। आतंकवाद के विस्तार के कारण यह यात्रा लगभग समाप्त सी हो गयी थी। इसे पुनप्र्रतिष्ठित करने का दायित्व बजरंग दल ने लिया। वर्ष 2005 में बजरंग दल ने तत्कालीन राष्ट्रीय सायोजक श्री प्रकाश शर्मा ने यात्रा को पुनः प्रारम्भ एव संचालन का के लिए पहल की और देश भर से आए बजरंग दल के कार्यकर्ताओ और युवाओ के साथ 5000 यात्रियो से बाबा बूढ़ा अमरनाथ जी को यात्रा आतंकी हमले की चुनौती के बाद भी प्रारम्भ प्रारम्भ किया, जिसके कारण आज इस यात्रा में यात्रियो की संख्या लगभग 4 लाख की है |bamarnath2

इस यात्रा के क्र्म में इस वर्ष 2014 की यात्रा का उदघाटन जम्मू के भगवती नगर स्थित यात्री निवास से हुआ जिसमे विश्व हिन्दू परिषद के अंतराष्ट्रीय अध्यक्ष माननीय राघव रेड्डी जी एव बजरंग दल के राष्ट्रीय सायोजक माननीय राजेश पाण्डेय जी, बाबा अमरनाथ एव बूढ़ा अमरनाथ यात्री न्यास के अध्यक्ष डॉ सुरेन्द्र अग्रवाल,डॉ रमाकांत दुबे, डॉ श्याम लाल गुप्ता,बजरंग दल अखिल भारतीय प्रशिक्षण प्रमुख श्री मनोज वर्मा,बूढ़ा अमरनाथ यात्रा के सायोजक श्री सुरेन्द्र मिश्रा,यात्रा सह- सायोजक श्री हरेश चौहान एव श्री नीरज दौनेरिया तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी , कार्यकर्ता एव यात्री कार्यक्र्म मे उपस्थित थे | यात्रा का पहला जत्था 01 अगस्त 2014 को प्रात 05 बजे भगवती नगर यात्री निवास से विश्व हिन्दू परिषद के अंतराष्ट्रीय अध्यक्ष श्री राघव रेड्डी एव बजरंग दल राष्ट्रीय सायोजक श्री राजेश पाण्डेय ने भगवा ध्वज दिखा कर यात्रा को रवाना किया,31 अगस्त से 08 अगस्त तक चले वाली इस यात्रा में पूरे देश भर से आए बजरंग दल के कार्यकर्ताओ के साथ समाज के लोग भारी संख्या में आए, यात्रा के मध्य में मंगलवार 5 अगस्त को बजरंग दल के राष्ट्रीय सायोजक श्री राजेश पाण्डेय जी के जन्मदिवस पर विशाल हनुमान चालीसा का कार्यक्म कार्यकर्ताओ के द्वारा भगवती नगर यात्री निवास मे आयोजित किया गया जिसमे यात्रियो ने भी हिस्सा लिया कार्यक्रम में विहिप के केंद्रीय मंत्री श्री कोटेश्वर जी एव विहिप इंद्रप्रस्थ क्षेत्र के क्षेत्रीय संगठन मंत्री श्री करुणा प्रकाश जी उपस्थित रहे ओर पूजन किया |

सम्पूर्ण क्षेत्र में चले आ रहे आतंकियों के कहर ने इस राष्ट्रीय यात्रा को तहसील और जिले तक ही सीमित कर दिया और समय सीमा भी दो-तीन दिन तक ही सिमट गई। इस यात्रा को पुनप्र्रतिष्ठित करना आवश्यक था।