श्रीराम जय राम जय जय राम, শ্ৰীৰাংজয়ৰাংজয়জয়ৰাং, শ্রীরাম জয় রাম জয় জয় রাম , શ્રીરામ જય રામ જયજય રામ, ಶ್ರೀರಾಮಜಯರಾಮಜಯಜಯರಾಮ, ശ്രിറാം ജയ് റാം ജയ്‌ ജയ് റാം, శ్రీరాంజయరాంజయజయరాం

“अशोक सिंहल : हिन्दुत्व के पुरोधा” पुस्तक का लोकार्पण

नई दिल्ली – 1अक्टुबर2015 विश्व हिन्दु परिषद के अन्तर्राष्ट्रीय संरक्षक श्री अशोक सिंहल जी को लोग देश, धर्म, समाज और संस्कृति की रक्षा के लिए जीवन भर संघर्ष करनेवाले और कई आन्दोलनों के सफल नेतृत्वकर्ता के रूप में जानते है।
अपने जीवन के महत्वपूर्ण 65 वर्ष राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रचारक रूप में धर्म और देश की सेवा में बिताने, कई आन्दोलनों का सफल नेतृत्व कर हिन्दु समाज को नई पहचान देनेवाले ओजस्वी व्यक्तित्व के धनी अशोकजी के कर्तृत्व-व्यक्तित्व, परिवार,छात्रजीवन, उनसे जुडी अनेंको घटना और पहलुओं को उजागर करती पुस्तक “अशोक सिंहल हिन्दुत्व के पुरोधा” के लोकार्पण कार्यक्रम के कुछ क्षण.