श्रीराम जय राम जय जय राम, শ্ৰীৰাংজয়ৰাংজয়জয়ৰাং, শ্রীরাম জয় রাম জয় জয় রাম , શ્રીરામ જય રામ જયજય રામ, ಶ್ರೀರಾಮಜಯರಾಮಜಯಜಯರಾಮ, ശ്രിറാം ജയ് റാം ജയ്‌ ജയ് റാം, శ్రీరాంజయరాంజయజయరాం

जम्मू कश्मीर के भारत में विलय दिवस पर हुए राजधानी में कई कार्यक्रम:

नई दिल्ली। अक्टूबर 23, 2010।

जम्मू कश्मीर के भारत में विलय को 63 वर्ष बीतने पर आज राजधानी में अनेक कार्यक्रम आयोजित किए गये। दक्षिणी दिल्ली के विभिन्न आर्य समाज मंदिरों व अन्य धार्मिक-सामाजिक संगठनों ने एक स्वर से संकल्प किया कि भारत माता के मुकुट स्वरूप कश्मीर को हम किसी भी कीमत पर अलगाववादियों के निशाने पर नहीं जाने देंगे। सभी ने भारत सरकार से देश में एक निशान, एक विधान व एक प्रधान की मांग करते हुए पी ओ के को पुन: हासिल करने की मांग की।

आर्य समाज-संत नगर (ईस्ट आँफ़ कैलाश) में आज जम्मू कश्मीर विलय दिवस पर भारत एकात्मता यज्ञ का आयोजन किया गया जिसमें राष्ट्र रक्षा संवंधी वेदों के विशेष मंत्रों से यज्ञ में आहूतियां दे कर कश्मीर रक्षा का संकल्प लिया गया। यज्ञोपरांत हुई सभा को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के दिल्ली प्रांत सेवा प्रमुख श्री अजय कुमार ने कहा कि संघ के द्वितीय सर संघ चालक श्री गुरू जी के विशेष प्रयत्नों व डा श्यामा प्रसाद मुखर्जी सहित अनेक राष्ट्र भक्तों के बलिदान के कारण कश्मीर के तत्कालीन राजा हरी सिंह द्वारा कश्मीर के भारत में पूर्ण विलय पत्र पर हस्ताक्षर तो करा लिए गए किन्तु पंडित नेहरू की हट धर्मिता के कारण वहां दो निशान, दो विधान व दो प्रधान की व्यवस्था के साथ धारा 370 को भारत माता के पेट में छुरे की तरह घोंप दिया गया। यज्ञ वैदिक विदुषी श्रीमती विमलेश आर्या द्वारा संपन्न कराया गया तथा आर्य समाज की उप प्रधाना श्रीमती शशी चावला की अध्यक्षता में सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा, रेजीडेंट वेल्फ़ेयर एसोशिएसन, सीनियर सिटीजन वेल्फ़ेयर एसोशिएसन, आर एस एस, विहिप, बजरंग दल व कई अन्य राष्ट्र भक्त संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। कार्यक्रम के उपरान्त कुमारी वाणी ने वंदेमातरम करवाया।

आर्य समाज-अमर कालोनी के संत्सग भवन में उपस्थित जन समूह को संबोधित करते हुए जम्मू विश्व विद्यालय के विधि विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रो किशोरी लाल भाटिया ने कहा कि नेहरू जी के शेख प्रेम व महाराजा हरी सिंह के प्रति घ्रणा के कारण ही कश्मीर की वर्तमान समस्या ने जन्म लिया। उन्होंने यह भी कहा कि जब राजा हरी सिंह ने पूर्ण विलय पत्र पर हस्ताक्षर कर ही दिए तो भारतीय संविधान में धारा 370 व कश्मीर के लिए अलग संविधान का क्या औचित्य? निवर्तमान राज्यपाल श्री जगमोहन द्वारा अप्रेल 21, 1990 को तत्कालीन प्रधान मंत्री श्री राजीव गांधी को धारा 370 की समाप्ति हेतु भेजे पत्र का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि वह भी एक स्वर्णिम अवसर था जब इस राष्ट्र द्रोह के शूल का समूह नाश हो सकता था किन्तु वह मौका भी गंवा दिया गया।

आर्य समाज के प्रधान श्री जितेन्द्र डावर की अध्यक्षता में हुए इस कार्यक्रम में क्षेत्रिय निगम पार्षद श्री वी पी मंडल व श्रीमती सविता गुप्ता, समाज सेवी श्री अश्वनी गुप्ता व श्री विशन दास चावला, विहिप दिल्ली के मीडिया प्रभारी श्री विनोद बंसल सहित अनेक प्रबुद्ध नर-नारी उपस्थित थे।

इनके अलावा ए ब्लौक ईस्ट आफ़ कैलाश व आर्य समाज श्री निवास पुरी में हुए कार्यक्रमों में भी क्षेत्रीय निगम पार्षद श्री धर्मवीर सिंह के साथ अनेक जन-प्रतिनिधियों तथा बडी संख्या में बच्चे-बूढे व जवानों ने भाग लिया। महिलाओं की उपस्थिति व उत्साह अनुकरणीय था। लोगों ने कश्मीर की रक्षा व पी ओ के को पुन: हासिल करने के लिए अपने प्राणों की कुर्बानी तक देने की बात दोहराई।

———————————————————————————————————————————————————————————

नई दिल्ली, 09 अगस्त। इन्द्रप्रस्थ विश्व हिन्दू परिषद द्वारा भाषाई पत्रकार मिलन समारोह का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में बोलते हुए विहिप के केन्द्रीय मंत्री कोटेश्वर शर्मा ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया व दैनिक अखबारों के साथ साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक, पत्र-पत्रिकाओं की भूमिका आज भी उतनी ही प्रासंगिक है जितनी पहले थी। स्थानीय खबरें व विश्व मानचित्र पर चल रहे विविध प्रकार के घटनाक्रमों में उनका योगदान सराहनीय है।

श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर आन्दोलन की पृष्ठभूमि पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि सन् 1528 से लेकर आज तक लगभग 77 लड़ाइयों में लाखों रामभक्तों ने अपना बलिदान किया किन्तु हिन्दू समाज की एकजुटता ने राम जन्मभूमि को कभी भुलाया नहीं। अब समय आ गया है कि राजसत्ता अपना कर्तव्य समझे और हिन्दुओं के आराध्य भगवान राम की जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए संसद में कानून बनाये।

विहिप दिल्ली के झण्डेवाला स्थिति कार्यालय में हुए भाषाई पत्रकार मिलन कार्यक्रम में राजधानी के विविध क्षेत्रों से आये साप्ताहिक, पाक्षिक व मासिक पत्र पत्रिकाओं के अनेक सम्पादक, संवाददाता एवं छायाकारों ने भाग लिया। इस अवसर पर विहिप के प्रांत उपाध्यक्ष सरदार उजागर सिंह व महामंत्री सत्येन्द्र मोहन भी उपस्थित थे। कार्यक्रम की प्रस्तावना मीडिया प्रमुख विनोद बंसल ने रखी तथा हनुमत शक्ति जागरण समिति के प्रांत मंत्री बृजमोहन सेठी ने आगामी 15 अगस्त से प्रारम्भ से होने वाले हनुमत शक्ति जागरण अभियान की घोषणा की।