श्रीराम जय राम जय जय राम, শ্ৰীৰাংজয়ৰাংজয়জয়ৰাং, শ্রীরাম জয় রাম জয় জয় রাম , શ્રીરામ જય રામ જયજય રામ, ಶ್ರೀರಾಮಜಯರಾಮಜಯಜಯರಾಮ, ശ്രിറാം ജയ് റാം ജയ്‌ ജയ് റാം, శ్రీరాంజయరాంజయజయరాం

दशाब्धि उत्सव – 2011

जानकी आश्रम – डेडियापाड़ा दशाब्धि उत्सव – 2011

विश्व हिन्दू परिषद प्रेरित जानकी आश्रम, डेडियापाड़ा (द. गुजरात) के दस वर्ष पूर्ति के उपलक्ष में दि. 17/01/2011 से 23/01/2011 तक दशाब्धि उत्सव का आयोजन किया गया । सम्पूर्ण अवधि में विविध कार्यक्रमों का आयोजन हुआ ।

दि. 17 जनवरी 2011 को केन्द्रीय सहमंत्री सेवा श्री अरविंदभाई ब्रह्मभट्ट जी के द्वारा मारुतियाग एवं गणेशयाग संपन्न्ा हुआ । जिसमें आश्रम के संरक्षक श्री एस.एल. पटेल, संचालिका सुश्री वर्षा बेन सेठ सहित संचालक मंडल के सभी कार्यकर्ता उपस्थित थे । आश्रम के बालिकाओं ने यज्ञ में आहुति अर्पित की ।

दि. 18 से 22 जनवरी 2011 तक आश्रम परिसर में जानकी आश्रम छात्रावास एवं रूपल बी. गज्जर विद्यालय के छात्र-छात्राओं की विविध स्पर्धा/बौद्धिक प्रतियोगितायें संपन्न् हुयी ।

दि. 23 के समापन समारोह कार्यक्रम में नर्मदा आश्रम-भरुच के अ.भा. संत समिति के ज्येष्ठ सदस्य पू. ओंकारानंद जी महाराज, भारत सेवाश्रम डेडियापाड़ा के संत श्री पू. बौद्धमित्रानंद जी, विशिष्ट अतिथि समवेत विश्व हिन्दू परिषद के अ.भा. सेवा प्रमुख श्री अरविंद जी चैथाईवाले, सह सेवा प्रमुख श्री मधुकरराव दीक्षित जी, सहमंत्री श्री अरविंदभाई ब्रह्मभट्ट जी, श्रीमती रश्मिकाबहन तोगड़िया और पद्माबहन लोटवाला मंचासीन थे । कार्यक्रम के प्रारंभ में दीप प्रज्ज्वलन में सभी ने भाग लिया । इसके बाद बालिकाओं ने प्रार्थना एवं नृत्य के साथ स्वागत गीत प्रस्तुत किया ।अतिथियों का परिचय स्वागत के बाद श्री अरविंदभाई ब्रह्मभट्ट जी ने कहा, कि दस वर्ष पूर्ण यह क्षेत्र अपरचित था, आज 100 से अधिक ग्रामों में आश्रम का संपर्क है ।

आश्रम में पू. स्वामी विदितात्मानंद जी के उपस्थिति में पू. स्वामी श्री विधाप्रकाशानंद सरस्वती जी एवं उनके माता-पिता ने सवत्स गो-दान किया । आज मिथला गोशाला में 12 गायें हैं, जिससे जैविक खाद बनता है । इनरेका संस्थान के प्रतिष्ठाता श्री विनोद जी कौशिक ने स्व. डाॅ. वणीकर के सेवा कार्य का स्मरण कर आश्रम की संचालिका सुश्री वर्षा बेन सेठ एवं सहयोगियों का उनके कार्य पर हार्दिक अभिनंदन किया ।

श्री दीक्षित जी ने दस पूर्ण वर्षों पर अभिनंदन करते हुये आगे कार्य के विस्तार का आवाहन किया । श्री दिलीपभाई त्रिवेदी जी, गुजरात विहिप अध्यक्ष कार्य को गांव-गांव में पहुंचाने का आग्रह किया । श्री अरविंद जी चैथाईवाले ने यह कार्यक्रम गत वर्ष छात्र संगम का अनुवर्ती प्रयास है एवं अब छात्राओं के गुणात्मक विकास का आवाहन किया । डाॅ. श्री भरतभाई अमीन ने कार्य का अभिनंदन करने हुये ’’आओ बच्चों तुम्हें दिखायें झांकी हिन्दुस्थान की‘‘ गीत बच्चों के द्वारा सांघिक गाकर उत्साह का संचार किया ।

केन्द्रीय मार्गदर्शक मंडल के ज्येष्ठ संत पू. स्वामी ओंकारानंद जी महाराज ने कार्य को आशीर्वाद देकर कहा कि, ’’विश्व हिन्दू परिषद मेरा आप है, मैं विश्व हिन्दू परिषद का हूं‘‘ । उन्होंने रू. 5000/- देकर भंडारा में अपना योगदान किया एवं स्कूल भवन के अधूरे कार्य को 2011 में ही पूर्ण करने का संकल्प किया ।

आश्रम कार्य में प्रत्यक्ष एवं परोक्ष सहयोग करने वालों को एवं प्रतियोगिताओं में विजयी छात्राओं को सम्मानित किया । कार्यक्रम में बड़ी संख्या में पालक वृंद एवं नागरिक उपस्थित थे ।