श्रीराम जय राम जय जय राम, শ্ৰীৰাংজয়ৰাংজয়জয়ৰাং, শ্রীরাম জয় রাম জয় জয় রাম , શ્રીરામ જય રામ જયજય રામ, ಶ್ರೀರಾಮಜಯರಾಮಜಯಜಯರಾಮ, ശ്രിറാം ജയ് റാം ജയ്‌ ജയ് റാം, శ్రీరాంజయరాంజయజయరాం

आळंदी से पंढरपूर यात्रा में आरोग्य सेवा यह परम सेवा है।

लाखो भाविकोंको सेवा देनेवाली विश्व हिन्दू परिषद् की आषाढ़ी आरोग्य सेवा यह परम सेवा है!

विश्व हिन्दू परिषद् की आषाढ़ी आरोग्य सेवा यह परम सेवा कार्य है. हर साल लाखो भाविकोंकी सेवा करनेका अवसर विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओंको मिल रहा है. यह वि.हीं.प. के लिए बड़े भाग्य की बात है ऐसा प्रतिपादन वि.हीं.प. के केन्द्रीय सत्संग प्रमुख मा. दादा वेद्कजी ने आषाढ़ी आरोग्य सेवा के उदघाटन के अवसरपर किया. आज रविवार २६ जून २०११ को पुणे के सरस्वती प्रशाला के मैदानपर विश्व हिन्दू परिषद् की आषाढ़ी आरोग्य सेवा का उदघाटन हुआ. इस वक्त ह.भ.प. कारले महाराज, ह.भ.प. हेरम्भ महाराज, पुणे महानगर के वि.हीं.प. अध्यक्ष प्रदीपजी जगताप और प्रकल्प प्रमुख संजय मुरडाले इन मान्यवर के शुभहस्ते इस कार्य का शुभारम्भ हुआ. उदघाटन के अवसरपर मा विजयराव करमरकर, सहमंत्री प. महाराष्ट्र वि.हीं.प. , किशोरजी चव्हान, भास्कर चिल्लाळ  मंत्री पुणे महानगर, मनोहर ओक, नाना पवार, कुंदन तोडकर, श्रीकांत कुलकर्णी इत्यादी मान्यवर उपस्थित थे.

इस अवसरपर मार्गदर्शन करते हुए ह.भ.प. कारले महाराजजी ने कहा, आषाढ़ी वारीमे समस्त हिन्दू समाज सभी भेदभाव भुलाकर एकजुट होकर मार्गक्रमण करता है. सभी समाजका १५-२० दिन एकजुट होना, एक-दुसरे के सुख -दुःख में सामिल होनेसे एक अभूतपूर्व सामाजिक शक्ति का निर्माण होता है. विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ता सेवावृतिसे इस रूग्नसेवा के कार्य में जुटे है. यह रूग्नसेवा वारकरी (भाविक) की लिए बहुतही महत्वपूर्ण सेवा है.

प्रकल्प प्रमुख संजय मुरडाले ने सबका स्वागत किया. इस प्रकल्प की जानकारी देने के लिए संजयजी ने एक प्रेसेंटेशन सादर किया और जानकारी दी की विश्व हिन्दू परिषद के माध्यम से देशभरमे शिक्षा, आरोग्य, सामाजिक विषयमे हजारो सेवाकार्य चलाये जाते है. इसीसे प्रेरणा लेकर चालू कियाहुआ यह प्रकल्पका रूपांतर अब एक बड़े वटवृक्ष में हुआ है. हरसाल श्री संत ज्ञानेश्वर महाराज कि पालखी आळंदी से पंढरपूर जाती है जबकि श्री संत तुकाराम महाराज कि पालखी देहू से पंढरपूर जाती है. इस दोनो रस्तोंपर हजारो वारकरी १८ दिन प्रवास पैदल प्रवास करते है. गये २३ साल से विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ता ७० से ७५ हजार वारकरीओको मुफ्त औषध एवं वैद्यकीय सेवा देते है. एस प्रकल्प मे ६ रुग्णवाहिका, ३२ डॉक्टर, १२ परिचारिका, और ३५ प्रशिक्षित कार्यकर्ता रहते है. हररोज औषध, इंजेक्शन, सलाएन, एवं छोटे ओपरेसन किये जाते है.

यह प्रकल्प २६ जून २०११ से ११ जुलै २०११ वारी के साथ, दोनो रूट से मार्गक्रमण करेगा. कार्यक्रम का सूत्र संचालन अच्चुतराव फाटकजी ने किया. सभी मान्यवरओंका स्वागत तुलसी का पौंधा देकर किया गया.

गुरुवार २२-६-२०११ प्रस्थान आळंदी

शुक्रवार २४-६-२०११ आळंदी

शनिवार २५-६-२०११ पुणे

रविवार २६-६-२०११ पुणे

सोमवार २७-६-२०११ सासवड

मंगळवार २८-६-२०११ सासवड

बुधवार २९-६-२०११ जेजुरी

गुरुवार ३०-६-२०११ वाल्हे

शुक्रवार १-७-२०११ लोणंद

शनिवार २-७-२०११ चांदोबाचा लिंब (उभे रिंगण १) – मुक्काम तरडगाव

रविवार ३-७-२०११ फलटण

सोमवार ४-७-२०११ बरड

मंगळवार ५-७-२०११ नातेपुते

बुधवार ६-७-२०११ सदाशिवनगर – (गोल रिंगण -१) – मुक्काम माळशिरस

गुरुवार ७-७-२०११ खडूसफाटा – (गोल रिंगण -२) – मुक्काम वेळापूर

शुक्रवार ८-७-२०११ ठाकूरबुवांची समाधी (गोल रिंगण -३) – मुक्काम भंडी शेगाव

शनिवार ९-७-२०११ बाजीरावाची विहीर (उभे रिंगण २) व (गोल रिंगण -४) -मुक्काम वाखरी

रविवार १०-७-२०११ पादुकांजवळ (उभे रिंगण २) – पंढरपूर