श्रीराम जय राम जय जय राम, শ্ৰীৰাংজয়ৰাংজয়জয়ৰাং, শ্রীরাম জয় রাম জয় জয় রাম , શ્રીરામ જય રામ જયજય રામ, ಶ್ರೀರಾಮಜಯರಾಮಜಯಜಯರಾಮ, ശ്രിറാം ജയ് റാം ജയ്‌ ജയ് റാം, శ్రీరాంజయరాంజయజయరాం

विश्व हिन्दू परिषद् के बढते चरण

प्रचार
सभी स्थानीय प्रान्त इकाइयों की ओर से प्रान्त भाषा में पत्रिका का प्रकाशन होता है। केन्द्रीय स्तर पर विश्व हिन्दू परिषद कार्यों की जानकारी देने के लिए ‘‘हिन्दू विश्व’’ पाक्षिक पत्रिका, गोसेवा क्षेत्र में काम करने वाले कार्यकर्ताओं के लिए ‘‘गोसम्पदा’’ मासिक पत्रिका, सन्तों को निःशुल्क भेजी जाने वाली ‘‘हिन्दू चेतना’’ पाक्षिक पत्रिका, विश्व हिन्दू परिषद विशेष सम्पर्क विभाग के कार्यकर्ताओं द्वारा मुम्बई से प्रकाशित ‘‘विश्व हिन्दू सम्पर्क’’ मासिक पत्रिका प्रकाशित की जाती हैं। धर्म प्रसार, सेवा व अन्य सभी अपने-अपने कार्यों का विवरण प्रकाशित कर कार्यकर्ता व समाज को निःशुल्क देते हैं। विश्व हिन्दू परिषद वर्षभर की गतिविधियों को पुस्तिका रूप में प्रतिवर्ष प्रकाशित किया जाता है।
अनेक वर्षों तक परिषद कार्यकर्ताओं को पत्रकारिता क्षेत्र की विधाओं का प्रशिक्षण दिया गया। ये प्रशिक्षण शिविर सामान्यतः 10 दिन के होते थे। ऐसे शिविर दिल्ली, गाजियाबाद, गुड़गाँव में सम्पन्न हुए।

 

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21