अपहृत नाबालिग़ बालिकाओं को रिहा कर हिन्दूओं पर अत्याचार रोके पाक सरकार : विहिप

अपहृत नाबालिग़ बालिकाओं को रिहा कर हिन्दूओं पर अत्याचार रोके पाक सरकार : विहिप
नई दिल्ली मार्च 28, 2019. विश्व हिन्दू परिषद् (विहिप) सहित सम्पूर्ण विश्व के हिन्दुओं की मांग है कि पाकिस्तान में अपहृत हिन्दू नाबालिग़ बालिकाओं को रिहा कर वहां पर हिन्दुओं, उनकी संस्कृति व धर्म स्थलों के विरुद्ध लगातार हो रहे उत्पीडन पर पूर्ण बिराम लगाया जाए.  आज दिल्ली में मीडिया को संबोधित करते हुए विहिप महा-सचिव श्री मिलिंद परांडे व केन्द्रीय सचिव श्री प्रशांत हरतालकर ने कहा कि पाकिस्तान के घोटी जिले की रवीना(13) व रीना(16) तथा बादिन जिले की मेघवाल हिन्दू समुदाय की एक अन्य 16 वर्षीया बालिका को अबिलम्ब रिहा कर इनके परिजनों को सौंपा जाए. इन नावालिक बालिकाओं का  हिन्दुओं के पवित्र होली के त्यौहार के दिन न सिर्फ बंदूक की नोंक पर अपहरण कर स्थानीय मस्जिद में ले जाया गया बल्कि जबरन धर्मान्तरण व इच्छा विरुद्ध निकाह भी किया गया. विहिप ने पाकिस्तान सरकार, वहां की न्याय व्यवस्था तथा अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से भी हिन्दूओं के मानवाधिकारों व नागरिक अधिकारों पर पाकिस्तान में लगातार हो रहे अत्याचारों के विरुद्ध अबिलम्ब प्रभावी कदम उठाने की मांग की है.
विहिप का कहना है कि अनेक स्वयं सेवी संगठनों तथा Global Human Rights Defence (GHRD) सहित अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार समूहों तथा मूवमेंट ऑफ सोलिडेरिटी एंड पीस के एक अनुमान के अनुसार पाकिस्तान में हर वर्ष एक हजार से अधिक हिन्दू बालिकाओं व महिलाओं का अपहरण तथा इस्लाम में धर्मांतरण बल पूर्वक किया जाता है. पाकिस्तान के न्यायालय तथा न्याय व्यवस्था भी दबाव पूर्ण तरीकों से बनाए गए फर्जी दस्तावेजों तथा बयानों के आधार पर इस्लामिक जिहादियों का ही समर्थन करते हैं.
आंकड़ों का हवाला देते हुए विहिप ने कहा कि 1947 से लेकर आज तक पाकिस्तान में हिन्दूओं का लगातार उत्पीडन होता रहा है. यही कारण है कि पाकिस्तान में भारत विभाजन के समय हिन्दुओं की 16% जनसंख्या सन्  2011 में मात्र 1.6% रह गई. आखिर 90% हिन्दू कहाँ चले गए? इसके पीछे उनका लगातार कानूनी, सामाजिक तथा प्रशासनिक उत्पीडन ही तो उत्तरदायी है जो प्रारम्भ से आज तक जारी है.
इन नाबालिग़ बालिकाओं के सन्दर्भ में भारत सरकार द्वारा की गई त्वरित कार्यवाही तथा पाकी उत्पीडन का शिकार निर्वासित हिन्दुओं को भारत में लम्बी अवधि के वीजा, उनकी नागरिकता तथा पुनर्वास संबंधी व्यवस्थाओं में सहयोग करने पर विहिप ने उसका धन्यवाद किया है. भारत के नागरिक कानून में बदलाव के प्रयासों पर भी संतोष व्यक्त करते हुए विहिप महा सचिव ने कहा की विश्व भर के किसी भी कोने में रहने वाला हिन्दू जब धार्मिक उत्पीडन का शिकार होता है तो स्वाभाविक रूप से वह भारत से ही आस लगाता है.
विहिप का यह भी कहना है कि हालांकि अपने नागरिकों की धार्मिक तथा मानवाधिकार संबंधी सुरक्षा की जबाव-देही वहां की स्थानीय सरकारों की है किन्तु फिर भी विश्व हिन्दू परिषद् विश्व भर में धार्मिक उत्पीडन के शिकार  हिन्दुओं का भारत में स्वागत करती है.
प्रशांत हरतालकर                                                               मिलिंद परांडे
केन्द्रीय मंत्री                                                                    महा-मंत्री

Release kidnapped Girls & Stop Atrocities on Hindus In Pakistan : VHP
New Delhi. March 28, 2019. Vishva Hindu Parishad (VHP) and Hindus from all over the world call for the immediate release of three Hindu girls and a full stop on persistent atrocities on Hindus, their culture & places of worship in Pakistan. Addressing media in New Delhi today, Shri Milind Parande, the Secretary General VHP and shri Prashant Hartalkar, Secretary (Int’l affairs) said that the three minor Hindu Girls i.e. Raveena (13) and Rina (15) from Ghoti District and another 16 year old girl from Badin district of Pakistan, belongs to a Meghawal Hindu community, who were kidnapped at gunpoint to a local mosque, forcibly converted to Islam and married against their will, on this past pious Holi occasion in Pakistan’s Southern Sindh Province, be released and handed over to their families immediately. Focusing on persistent Civil rights and freedom of Hindus been violated, VHP called for the attention of Pakistani Government, its judiciary & the world community including UNHRC, to stop them forthwith.
VHP said that Many NGO’s and national and International Human Rights Groups, including Global Human Rights Defence (GHRD) and the Movement for Solidarity and Peace, have estimated that more than 1,000 Hindu girls and women are kidnapped and forced to convert to Islam annually. The Courts and legal system in Pakistan are often complicit in sanctioning this practice by accepting false documents and statements obtained through force, threats, or coercion.
Recalling the statistics VHP said that Hindus have been and still being persecuted in Pakistan. When Pakistan came into existence in 1947, Hindus were 16% of their population. But, by 2011, it drastically reduced to only 1.6%. Where did this 90% of the Hindu population gone in past about 60 years?, VHP Secretary General asked. This decimation is the outcome of sustained legal, social & administrative discrimination and atrocities on Hindu ever since the creation of Pakistan, he added.
We are thankful to the present Government of Bharat for not only prompt response in the present case of these minor girls but also for its regular efforts in relaxing citizenship rules, granting long term Visas, citizenship rights and facilitating rehabilitation of Pak victim immigrants in Bharat. We are also thankful for its all-out efforts in amending the citizenship Act for protecting Hindu Victims living outside Bharat. We hope that those people who are opposing this amendment would re-think and pass it in the new Parliament. Wherever Hindus are being victimized, they naturally seeks shelter of Bharat to save their religion, dignity and life. All Hindus who are facing atrocities across the globe due to religious discrimination and willing to return back are welcome back. We will facilitate them in protecting their life & religion .
Prashant Hartalkar                                                                    Milind Parande
Kendriya Mantri                                                                  Secretary   General
Vishwa Samnway vibhag

You May Also Like