विहिप के केन्द्रीय कार्यालय में महापर्व गोपाष्टमी हर्षोल्लास के साथ सम्पन्न।

नई दिल्ली – 22 -11-2020 – विश्व हिन्दू परिषद के केन्द्रीय कार्यालय ( हनुमान मंदिर) की गौशला में आज प्रातः महापर्व गोपाष्टमी परिषद के वरिष्ठ पदाधिकारियों- प्रचारकों की गरिमामय उपस्थिति में विधि-विधान पूर्वक हर्षोल्लास के साथ दिव्य वातावरण में सम्पन्न हुआ। स्मरण रहे कि गोपाष्टमी महापर्व पर योगेश्वर श्रीकृष्ण भगवान छः वर्ष के थे। उस समय उन्होंने दीपावली प्रकाशपर्व के पश्चात आने वाली अष्टमी के दिन अपनी मैया यशोदा-नन्द बाबा से कहा कि मै अब आज से गोवंश चराने के लिए जंगल में जाना चाहता हूं। काफी समझाने के बाद भी जब वे नही माने तो यशोदा-नन्दबाबा ने उन्हें अनुमति देदी। उसी दिन अष्टमी से ही बाल गोपाल कृष्ण ने अपने गोप बन्धुओं के साथ गोवंश को चराने के लिए जंगल में ले गये। इसीलिए यह दिन को गोपाष्टमी महापर्व के नाम से सुविख्यात हो गया। तब से ही गोपाष्टमी के अवसर पर सभी गोपालक अपने-अपने घरों में में और गौशालाओं में गोमाताओं-गोवंश की विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते आ रहें है। इस अवसर पर गोरक्षा विभाग के राष्ट्रीय संगठन मंत्री मा. खेमचन्द जी सहित विहिप के वरिष्ठ प्रचारक मा. ओम प्रकाश जी गर्ग, मा. वीरेश्वर द्विवेदी जी, मा. धर्म नारायण शर्मा जी, मा. कोटेश्वर जी, मा. हरिशंकर जी, मा. सुनील जी, मा. रास बिहारी जी, मा. सुधांशु पटनायक जी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्रीय प्रचारक मा. रामेश्वर जी, गोरक्षा विभाग के पदाधिकारी मा. जय प्रकाश गर्ग जी, मकरंद जी, विजेन्द्र तंवर जी, देवेन्द्र नायक जी, श्यामशंकर झा, रघुपति झा, गोसेवक किसन एवं अश्विनी सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे।
गोसम्पदा पत्रिका