एक सशक्त व गौरव शाली भारत का आधार बनेगा श्री राम मंदिर: डॉ सुरेन्द्र जैन

एक सशक्त व गौरव शाली भारत का आधार बनेगा श्री राम मंदिर: डॉ सुरेन्द्र जैन

नई दिल्ली। अगस्त 1, 2020|

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के केन्द्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ सुरेन्द्र जैन ने कहा है कि राम मंदिर का भूमि पूजन देश के लिए एक परम गौरवशाली क्षण है। इस राष्ट्रीय गौरव को कोई धूमिल नहीं कर सकता है। 492 वर्ष पूर्व श्री राम जन्मभूमि पर एक विदेशी आक्रांता बाबर द्वारा निर्मित स्मृतियों को हटाकर राष्ट्रीय अस्मिता के प्रतीक भगवान राम का मंदिर बनाने के लिए हिंदू समाज ने निरंतर संघर्ष किए हैं। 1984 से प्रारंभ हुए वर्तमान संघर्ष में तीन लाख से अधिक गांवों की सहभागिता के साथ 16 करोड़ राम भक्तों ने भाग लिया। 9 नवंबर 2019 को माननीय सर्वोच्च न्यायालय के ऐतिहासिक निर्णय देने तक यह संघर्ष निरंतर चलता रहा। इस अद्वितीय अभियान का ही परिणाम था कि राष्ट्रीय शर्म का प्रतीक बाबरी ढांचा अब वहां नहीं है और राष्ट्रीय गौरव के प्रतीक भगवान श्री राम के भव्य मंदिर निर्माण का संकल्प एक एक कदम आगे बढ़ते हुए साकार हो रहा है।
आज नई दिल्ली में आयोजित एक प्रेस वार्ता में उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि आंदोलन का इतिहास देश को “आत्मग्लानि से आत्मविश्वास की ओर” जाने वाली एक अद्भुत गौरव यात्रा है। लगभग 1000 वर्षों तक विदेशी आक्रमणकारियों के विरुद्ध चले निरंतर संघर्ष के बाद हमने विजय प्राप्त की थी परंतु छद्म धर्म-निरपेक्षता की विभाजनकारी राजनीति ने देश के स्वाभिमान को कुंठित करने का प्रयास निरंतर किया। हिंदू समाज को न केवल काल्पनिक आधारों पर बांटा जा रहा था अपितु हिंदुओं में एक हीन भावना का निर्माण भी किया जा रहा था। इस आंदोलन ने विभाजन की सभी रेखाओं को समाप्त कर दिया है। जाति, पंथ, भाषा, क्षेत्र आदि से ऊपर उठकर हिंदू संगठित हुआ है। गौरव से परिपूर्ण होकर आत्मविश्वास के साथ आज करोड़ों हिंदू कहते हैं “गर्व से कहो हम हिंदू हैं”। इसी स्वाभिमान, आत्मविश्वास व राष्ट्रीय गौरव के परिणाम स्वरूप भारत में विभाजनकारी राजनीति जीवन के सभी क्षेत्रों से लुप्त होती जा रही है। संपूर्ण देश अब आत्मविश्वास से परिपूर्ण होकर हर क्षेत्र में कल्याणकारी परिवर्तन ला रहा है। साथ ही, भारत, वैश्विक मंच पर, एक महाशक्ति के रूप में पदार्पण कर रहा है।
डॉ जैन ने आगे कहा कि राष्ट्रीयता का गौरव किसी भी देश के लिए एक महत्वपूर्ण प्रेरक तत्व होता है परंतु, विभाजनकारी तुष्टीकरण की राजनीति के कारण भारत की राष्ट्रीयता की परिभाषा भ्रमित कर दी गई थी। अब भारत की राष्ट्रीयता को किसी विदेशी आक्रांता से नहीं जोड़ा जा सकता। राष्ट्र पुरुषों की प्रेरक गाथाएं ही इस को परिभाषित करती हैं। भगवान राम से बढ़कर राष्ट्रपुरुष कौन हो सकता है? इसे स्वयं देश के संविधान ने स्वीकार किया है।
विहिप के संयुक्त महामंत्री ने यह भी कहा कि इस कल्याणकारी परिवर्तन की गति तेज होती जा रही है। भगवान राम के मंदिर का शीर्ष कलश स्थापित होने तक सभी विभाजनकारी तत्व पूर्ण रूप से निरर्थक व निष्तेज हो जाएंगे और आत्म गौरव स्वाभिमान तथा आत्मविश्वास से युक्त एक नए भारत का संकल्प साकार होगा।

 


Shri Ram temple will be a mainstay of a strong and glorious Bharat: Dr. Surendra Jain

New Delhi, August 01, 2020.

The Central Joint General Secretary of Vishva Hindu Parishad (VHP), Dr. Surendra Jain, has said that the Bhumi Pujan (Adoration of Earth Goddess) for Ram temple is a glorious moment for the country. No one can tarnish this fulcrum of national glory. The national society of Bharat fought continuously for 492 years, since 1528 CE, to undo the debasing and undermining Jihadi statement and signature superimposed by the foreign invader Babar on the birthplace temple of Sri Ram at Ayodhya. And now, at the end of the day, the Hindu society is poised to re-build the majestic Temple of Nativity of Sri Ram that will stand to uphold the sovereignty, unity, integrity, refinement, grace and dignity of Bharatvarsh. This temple will reclaim, restate and reassert national identity and uncompromising cultural nationalism of Bharat and won’t let the country suffer from any identity crisis. In the latest mass struggle that started in 1984 CE, 160 million Ram devotees and more than 300,000 of the 649,481 villages of Bharat participated. This struggle continued till the historic verdict of the Hon’ble Supreme Court of Bharat delivered on November 09, 2019. It was the result of this one of its kind cultural freedom struggle that Babar’s outlandish superimposed Jihadi statement and signature, that disgraced our pride and nationhood, is no longer there, and the resolve to build a stately temple to our great Patriarch Bhagwan Sri Ram is going to soon materialise steadily by degrees. The Sri Ram’s Nativity Temple will serve as a pivot of national self-esteem and dignity and continue to inspire the generations to come for Ram Rajya (Welfare State) ensuring happiness, health, sustainable prosperity and blessedness for one and all.
In a press conference held at New Delhi today, he said that the history of Ram Janmabhoomi movement is a rousing journey of pride of the country going “From Guilty/Troubled Conscience to Self-Confidence and Clear Conscience”. It also tested the national values and tradition of gallantry of the people through loyalty, duty, respect, selfless service, honour, integrity, personal courage and sacrifice. We won after nearly 1,000 years of continuous struggle against foreign invaders, but the divisive, disruptive and discordant politics of pseudo-secularism tried to frustrate the country’s self-esteem, cultural underpinning and bedrock. Hindu society was not only being divided on fictitious grounds, but also an insidious effort was on to plant a complex of inferiority in Hindu minds and hearts. This organic movement has expunged all manufactured and contrived fault-lines of division. Hindus have identified with one another, united and organized by rising above avowals of caste, creed, language, region, etc. Filled with pride, millions of Hindus today declare: “Proudly say, we are Hindus”. As a result of this self-respect, confidence and national pride, divisive politics in India is disappearing from all walks of life. The entire country is now full of confidence and bringing welcome changes in every field of life for all round welfare. Also, Bharat is making its debut as a superpower on the global stage.
Dr. Jain further said that pride of nationality is an important motivating element for any country, but due to the politics of divisive appeasement, the definition of nationality of Bharat was confused, a national crisis of identity was being created. Now Bharat’s nationality cannot be linked to any foreign invader. It is the inspiring narratives of the patriarchs and matriarchs of the nation that will define this. Who can be a better Patriarch than Bhagwan Ram? It has been accepted by the constitution of the country itself.
The VHP’s Joint General Secretary also said that the pace of this welcome change is increasing rapidly. By the time the Kalash (pinnacle pitcher) of Bhagwan Ram’s temple is established, all the divisive elements would have become irrelevant and faded into oblivion and nothingness and the resolve of a new Bharat, with self-esteem, poise and self-reliance, would come true.

On Fri, Jul 31, 2020 at 11:42 AM
Vinod Bansal <vinodbansal01@gmail.com> wrote:

You May Also Like