लव जिहाद अब और बर्दास्त नहीं, कानून बनाए सरकार : डॉ सुरेन्द्र जैन

प्रेस विज्ञप्ति :

लव जिहाद अब और बर्दास्त नहीं, कानून बनाए सरकार : डॉ सुरेन्द्र जैन

लव जिहाद के 170 मामलों की सूची भी की जारी

 

नई दिल्ली। अक्तूबर 16, 2020। विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने लव जिहाद से पीड़ित कन्याओं के द्वारा आत्महत्या, उनकी जिहादियों द्वारा निर्मम हत्या एवं दुर्दशा की बढ़ती हुई घटनाओं पर चिंता व आक्रोश व्यक्त करते हुए इस हेतु अविलंब कानून बनाने की मांग की है।  विहिप के केन्द्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ सुरेन्द्र जैन ने आज कहा कि पिछले दिनों में तो इन घटनाओं की झड़ी सी लग गई है। लखनऊ में एक पीड़ित महिला द्वारा आत्मदाह कर अपने प्राणों की बलि देना हो या सोनभद्र में पीड़िता का सिर कटा शव मिलना हो, पिछले 8-10 दिन से बड़ी संख्या में  ये घटनायें सामने आ रही हैं जो किसी  पत्थर दिल व्यक्ति का दिल दहलाने के लिए भी पर्याप्त हैं। केरल से लेकर जम्मू कश्मीर और लद्दाख तक इन षड्यंत्रकारियों का एक जाल बिछा हुआ है। गैर मुस्लिम लड़कियों को योजनाबद्ध तरीके से जबरन या धोखे से अपने जाल में फंसा लेना किसी सभ्य समाज का चिंतन नहीं हो सकता। यह केवल जनसंख्या बढ़ाने का भोंडा तरीका ही नहीं, अपितु आतंकवाद का एक प्रकार भी है। केरल उच्च न्यायालय ने इसे धर्मांतरण का सबसे घिनौना तरीका बता कर ही इसे लव जिहाद नाम दिया था। विश्व हिंदू परिषद ने संज्ञान में आए इस प्रकार की 170 मामलों की सूची बनाई है जो पिछले 8-10 सालों से संबंधित है। इस सूची को इस विज्ञप्ति के साथ जारी किया जा रहा है।

एक अनुमान के अनुसार प्रतिवर्ष 20,000 से अधिक गैर मुस्लिम लड़कियां इस षड्यंत्र का शिकार बन जाती हैं। जिहादियों के जाल में फंसने के बाद इन लड़कियों का न केवल जबरन धर्मांतरण होता है अपितु नारकीय जिंदगी जीने पर मजबूर किया जाता है। वेश्यावृत्ति करवाने और उन्हें बेच देने की घटनाओं के अलावा पूरे परिवार के पुरुषों व मित्रों द्वारा जबरन यौन शोषण की घटनाएं भी समाचार पत्रों में आती ही रहती हैं। जब इन अमानवीय यातनाओं की अति हो जाती है तो ये लड़कियां आत्महत्या के लिए विवश हो जाती हैं परंतु पुलिस में शिकायत करने का अवसर बहुत कम लड़कियों को मिल पाता है। एक न्यायालय ने तो अपनी टिप्पणी में पूछा भी था कि लव जेहाद की शिकार लड़कियां गायब क्यों हो जाती है।

लव जिहाद से संपूर्ण मानवता त्रस्त है। कहीं इसे रोमियो जेहाद तो कहीं इसे पाकिस्तानी सेक्स गैंग के नाम से संबोधित किया जाता है। मुस्लिम देशों में तो गैर मुस्लिम महिलाओं को यौन दासी माना ही जाता है बाकी देशों में भी इन्हें माले-गनीमत समझ कर अपनी कामुकता का शिकार बनाने की कोशिश की जाती है। अब विश्व के कई देश इससे त्रस्त होकर आवाज उठाने लगे हैं। म्यानमार की घटनाओं के मूल में भी लव जिहाद ही है। श्रीलंका में 10 दिन की आंतरिक एमरजैंसी लगाकर वहां के समाज के आक्रोश को शांत करना पड़ा था। जब स्वभाव से शांत बौद्ध समाज का आक्रोश यह रूप धारण कर सकता है तो बाकी समाज का आक्रोश कैसा होगा? इस को ध्यान रखकर अब लव जिहादियों को अपने इरादे बदल लेने चाहिए।

 

लव जिहाद की फंडिंग के समाचार सामने आ रहे हैं। PFI, SIMI, ISI जैसी संस्थाएं इनके पीछे हैं। इसीलिए कहीं भी मामला बढ़ने पर बड़े वकील तुरंत इनकी पैरवी के लिए खड़े हो जाते हैं जिनको लाखों – करोड़ों रुपए फीस के रूप में  दिए जाते हैं। केरल की हादिया का उच्चतम न्यायालय में एक बड़े वकील द्वारा बड़ी फीस लेने का उदाहरण सबके सामने है। कई मामलों में तो पकड़े गए जिहादियों ने स्पष्ट कहा है कि उन्हें इस काम के लिए मौलवी ने पैसे भी दिए हैं। वोट बैंक या अन्य निहित स्वार्थों के कारण आज भारत में सेकुलर बिरादरी हिंदुओं और देश के भविष्य की चिंता किए बिना इन जिहादियों का खुला समर्थन करती है। लखनऊ में आत्मदाह करने वाली पीड़िता को एक कांग्रेसी नेता ने ही राजनीतिक लाभ लेने के लिए उकसाया था। आज भारत में भी गैर मुस्लिम समाज आक्रोशित है। विहिप इस अपवित्र गठबंधन को चेतावनी देती है कि इनको समाज के आक्रोश से डरना चाहिए और इस घृणित कृत्य को तुरंत बंद कर देना चाहिए। इन षडयंत्रों के लिए सभी राज्य सरकारें समय समय पर चिंता व्यक्त करती रही हैं।

विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री भी समय समय पर इस संबंध में अपनी चिंता व्यक्त करते रहे हैं। विहिप मांग करती है कि मामले की भीषणता को समझते हुए केंद्र व राज्य सरकारें लव जिहाद रोकने हेतु सशक्त कानून बनाएं। साथ ही हम समाज से भी अपील करते हैं कि वह ऐसी घटनाओं के प्रति चौकन्ने रह कर उन्हें रोकने हेतु संविधान सम्मत कदम उठाएं।

 

जारीकर्ता
विनोद बंसल
राष्ट्रीय प्रवक्ता, विश्व हिंदू परिषद
अणु डाक: vinodbansal01@gmail.com

चल दूरभाष : +91 9810949109 @vinod_bansal

 

Press Statement:

Love-Jihad is no more tolerable, Govt should enact law: Dr. Surendra Jain

List of 170 cases of love-Jihad also released

 

New Delhi, October 16, 2020 – The Vishva Hindu Parishad (VHP), expressing its deep concern and fury at the increasing incidents of suicide being committed by girls suffering from Love-Jihad, their ruthless killings by Jihadists and their miserable plight, has demanded urgent enactment of a law to stop it. The Central Joint General Secretary of VHP, Dr Surendra Jain today said that lately there has been a volley of such incidents. Whether it is the case of a love-Jihad victim sacrificing her life by self-immolation in Lucknow or the headless body of a love-Jihad victim found in Sonbhadra, these incidents have been coming out in large numbers during the last 8-10 days which are enough to shock even a stone-hearted person to shudder and tremble. From Kerala to Jammu & Kashmir and Ladakh, there is widespread and overactive a network of love-jihad conspiracy to trap unsuspecting non-Muslim girls. It cannot be the thinking and mindset of a civilized society to systematically ensnare, corner and lock in non-Muslim girls into their trap by force or fraud! This is not only an uncouth and grotesque way of increasing the population through ‘Ghazwa’ to materialise Demographic-Jihad, but also an added range of terror campaign. The Hon’ble High Court of Kerala, having called it the most disgusting method of religious conversion, had tagged it as “Love-Jihad”. The Vishva Hindu Parishad has compiled a list of 170 such Love-Jihad cases that have been taken cognizance of during the last 8-10 years. This list is also being released along with this communique.

 

As per an estimate, every year more than 20,000 non-Muslim girls fall victim to this conspiracy. After being locked in the Jihadi trap, these girls are not only forced to convert to Islam but also forced to live hellish lives. Apart from the incidents of human-trafficking to throw them into the prostitution trade and selling them, the incidents of forced sexual abuse by men and friends of the whole persecuting family also comes in the newspapers. When these inhuman tortures become too much horrendous, then these girls find no way out but to commit suicide, but a very few girls get the opportunity to lodge complaints with the police. A court of law had even asked in its comment as to why do the Love Jihad victim girls disappear.

 

The whole of humanity is plagued by this Love-Jihad. Somewhere it is called “Romeo-Jihad” and somewhere it is called as “Pakistani-Sex-Gang”. In Muslim countries, non-Muslim women are invariably considered as sexual slaves of Muslims and even in other countries, they look at non-Muslim women as “Maal-e-Ghanimat” (spoils of war) and make efforts to victimise them and make them slaves of their sexuality. Now many countries of the world have begun raising their voice against this Satanic Love-Jihad after being stricken by it. Love Jihad is at the core of the Buddhist-Muslim troubles and events in Myanmar. In Sri Lanka, the fury of the society had to be pacified by clamping a 10- day internal emergency. When the anger of a Buddhist society, that is calm by nature, can take this form, then how immense could the fury of the rest of the societies be? Keeping this global awakening to see through the Jihadi games in view, now the love-Jihadists must change their intents, mindset and ways.

 

News of Love Jihad funding is in wide public domain now. Organizations like the PFI, SIMI, ISI are behind them. That is why whenever and wherever there is a Love Jihad case in a court of law, big lawyers are immediately given millions and crores of rupees as fees to stand up to plead for the lone-wolf Love-Jihadists. The pattern and instance of a big Supreme Court lawyer charging a large fee in the case of Hadiya of Kerala is in front of everyone. In many cases, the arrested Jihadists have clearly stated that some Maulvi (clerics) also gave them money for this work. Due to vote-bank politics or other vested interests, the secular fraternity in India today openly supports these Jihadists without worrying about the future of Hindus and the country. The victim who committed suicide in Lucknow was instigated by a Congress leader with a view to gaining political advantage and mileage. Today, the non-Muslim society in Bharat also is furious. The VHP warns this unholy alliance that these elements should fear the ire of society and stop this disgusting act immediately. All the state governments have been expressing concerns over these conspiracies from time to time.

 

The Chief Ministers of various states have also been expressing their concerns in this regard from time to time. The VHP demands that the central and the state governments, realizing the monstrousness and magnitude of the Love-Jihad conspiracy, enact strong laws to stop it! At the same time, VHP also appeals to the society to remain ever-more vigilant about such incidents and take constitutional measures to prevent them.

 

Regards

 

Vinod Bansal

National Spokesperson

Vishva Hindu Parishad

M-9810949109 @vinod_bansal

Email : vinodbansal01@gmail.com

You May Also Like