Press Statement: Mamata Should Crush The Jihadists’ Terror : Milind Parande

New Delhi, May 18, 2020 | Warning the West Bengal Chief Minister Ms Mamata Banerjee against the ever increasing attacks on Hindus in the State, the Vishva Hindu Parishad today said that she should not test the patience of Hindus any more otherwise they will have to take this issue out to the streets, so that the matter would be addressed by the citizens. VHP’s Central Secretary General Sri Milind Parande said today that there are constant attacks on Hindus by Muslims in Bengal, their constituents and wealth, their real estates and other properties, temples and even cremation sites are being illegally occupied. By arresting these criminal and anti-national activities, their security should be increased and strict action should be taken against the aggressors.

He said that recently, Hindus were attacked for three days continuously in Telni Pada village of Bhadresar tehsil in Hooghly district. Despite there being a medical emergency during the COVID-19 pandemic lockdown, their houses were burnt, women were targeted and they were also beaten up, but the police remained inactive. In the Harishchandra block of Malda, there was looting and despoilment in the Hindu settlement and there was also an attempt to break the temple. In a village near Basirhat, it was the police itself that beat up the women. Even the police and armed forces in Howrah were attacked by Muslim mob. In Murshidabad district, Hindu settlements have even repeatedly been targeted.

The VHP Secretary General said that the condition of this mismanagement in Bengal is such that even the public representatives have been sort of banned from going to the public. The Corona-Virus spreading and infecting Jamatis were caught, but all were released. The government of Bengal is working by bypassing the constitution. Even several public-welfare schemes of the Central Government have fallen prey to the partisan politics in the state, due to which the society is not getting its benefits.

The Central Government and all the state and UT governments have prescribed and urged for social distancing to break the Corona pandemic chain, but the Muslims are constantly violating it and trying to spread the corona infection. In areas where there are large Muslim populations, Hindus are also being attacked and forced to flee. The attitude of the Chief Minister of Bengal is that of discrimination with Hindu society. That is why even the Bengal police are not protecting the victims.

Bombs and petrol bombs were also used in the Hooghly incidents. NIA has said that at many places in Bengal, where Muslim population is increasing, there are sleeper cells of terrorist organizations of Bangladeshi Muslims which are becoming a big threat to the internal security of Hindu society and the country. Similar incidents took place at the time of the CAA protests, in which houses, railway stations and villages were singled out, marked and burnt down.

He also said that on seeing all these incidents of violence, it can be understood that whatever the issue may be, only Hindus are being targeted without any rhyme or reason. In such a situation, if the government and the police do not protect the Hindus, then the Hindus will have to stand up for their self-defence. People will stand up to protect their families and their womenfolk.

The Vishva Hindu Parishad warns the Chief Minister of Bengal, Ms. Mamata Banerjee that she should not compel the people of Bengal to take to the streets, but the government itself should stop the attacks on civilians there, protect their lives and property and punish the aggressors. It is also the State Government’s constitutional duty. Even sensible people of Muslim community should keep the cruel, wicked and tyrannical elements inside their community restrained and the state government should harshly put down all such violent elements.

 

Regards

Vinod Bansal

National Spokesperson

Vishva Hindu Parishad

 

नई दिल्ली। मई 18, 2020। पश्चिमी बंगाल में हिन्दूओं पर लगातार बढ़ते आक्रमणों के विरुद्ध विश्व हिन्दू परिषद् ने आज मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  को चेताते हुए कहा है कि वे राज्य के  हिन्दुओं के धैर्य की परीक्षा अब और ना लें अन्यथा उन्हें सडकों पर उतरना पडेगा. विहिप के केन्द्रीय महामंत्री श्री मिलिंद परांडे ने आज कहा है कि बंगाल में मुसलमानों के द्वारा हिन्दुओँ पर लगातार हमले किए जा रहे हैं, उनके जन-धन, जमीन-जायदाद, मंदिर व शमसान तक पर अवैध कब्जे हो रहे हैं। इन्हें रोक कर उनकी सुरक्षा बढाई जाए तथा हमलावरों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही हो.

उन्होंने कहा कि हाल ही में, लाक डाउन के दौरान मेडिकल इमरजेन्सी होने के बाद भी हुगली जिला, भद्रेसर तहसील के तेलनी पाड़ा गाँव में तीन दिन तक लगातार  हिन्दूओं पर  हमला किया गया, उनके घर जलाए गए, महिलाओं को निशाना बनाया गया तथा उनके साथ मार पीट भी की गई लेकिन, पुलिस निष्क्रिय रही। मालदा के हरिशचंद्र ब्लाक में हिन्दू बस्ती में लूट-पाट की गई तथा मंदिर तोड़ने का भी प्रयास हुआ। बशीरहाट के पास गांव में तो पुलिस द्वारा ही महिलाओं के साथ मार-पीट की गई। यहां तक कि हावड़ा में  पुलिस और सशस्त्र दल पर भी मुस्लिम भीड़ के द्वारा आक्रमण किया गया। मुर्शिदाबाद जिले में तो हिन्दू बस्तियों को बार बार निशाना बनाया जाता रहा है।

विहिप महामंत्री ने कहा कि बंगाल की इस दुर्वव्यवस्था का हाल ये है कि जन-प्रतिनिधिओं को भी जनता के पास जाने के लिए प्रतिबंधित सा कर दिया गया है। कोरोना वायरस को फैलाने वाले जमातियों को पकड़ा तो गया किन्तु, सब को छोड़ दिया गया। बंगाल की सरकार संविधान को दरकिनार कर कार्य कर रही है यहां तक कि केंद्र की अनेकों जन-उपयोगी योजनायें दलगत राजनीति के चलते भेंट चढ़ गयी हैं जिसके कारण इनका लाभ समाज को नहीं मिल पा रहा।

शारीरिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) का आग्रह केंद्र व सभी सरकारों ने किया है लेकिन मुसलमान लगातार इसका भी उल्लंघन करके कोरोना जैसी महामारी को बढ़ाने में लगे हैं। जिन क्षेत्रों में मुस्लिम आबादी अधिक है, वहाँ तो हिंदुओं पर हमला करके उन्हें पलायन करने के लिए भी विवश किया जा रहा है। बंगाल की मुख्यमंत्री का रवैया हिन्दू समाज के साथ भेदभाव पूर्ण है. तभी बंगाल की पुलिस भी उनकी रक्षा नहीं कर रही है।

हुगली की घटनाओ में बम और पेट्रोल बम का प्रयोग भी किया गया। NIA ने कहा है कि अनेक जगहों पर, जहां बंगाल में मुस्लिम आबादी बढ़ रही है वहां बांग्लादेशी मुसलमानों के आतंकी संगठनों के स्लीपर सेल बने हैं जो हिन्दू समाज और देश की आंतरिक सुरक्षा के लिये बड़ा खतरा बन रहे हैं। ऐसी ही घटनाएँ CAA के विरोध के समय भी हुईं थी, जिसमें रेलवे स्टेशन तथा गाँवों में  घरों को भी चिन्हित करके जलाने का काम हुआ।

उन्होंने यह भी कहा कि हिंसा की इन सभी घटनाओं को देखने पर समझ आयेगा कि विषय कोई भी हो, अकारण, हिंदुओ को ही टारगेट कर किया जा रहा है। ऐसे में सरकार और पुलिस अगर हिन्दुओं की रक्षा नहीं करेगी तो हिन्दुओं को स्वयं की रक्षा के लिये खड़ा होना पड़ेगा। अपने परिवार, बहन बेटियों की रक्षा के लिये लोग खड़े हो जाएंगे।

विश्व हिन्दू परिषद बंगाल की मुख्यमंत्री सुश्री ममता बनर्जी को आगाह करती है कि वे बंगाल की जनता को सड़क पर उतरने के लिए वाध्य न करें अपितु, सरकार ही वहां नागरिकों पर हो रहे आक्रमणों को रोके, जान माल की रक्षा करे तथा आक्रमणकारियों को दंडित करे। यह उसका संवैधानिक कर्तव्य भी है। मुस्लिम समाज के समझदार लोग भी अपने अन्दर के क्रूर, दुष्ट व अत्याचारी तत्वों को संयमित रखें तथा राज्य सरकार ऐसे सभी हिंसक तत्वों का कठोरता से दमन करे.

जारीकर्ता
विनोद बंसल
राष्ट्रीय प्रवक्ता,

विश्व हिंदू परिषद

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *