धर्मांतरण विरोधी बिल का विरोध कांग्रेस की राष्ट्रघाती व आत्मघाती नीति का परिचायक: विहिप



 

      नई दिल्ली। मार्च 5, 2022। अवैध धर्मांतरण पर रोक संबंधी बिल का हरियाणा विधानसभा में कांग्रेस ने जिस क्रूरता से विरोध किया है उससे एक बार पुन: स्पष्ट हो गया है कि अब यह महात्मा गांधी की नहीं अपितु, ईसाई सोनिया कांग्रेस ही है। विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ सुरेंद्र जैन ने कांग्रेस के इस कदम को राष्ट्रघाती और आत्मघाती करार दिया है।  उन्होंने कहा है कि एक ओर स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद महात्मा गांधी की कांग्रेस ने अनेक राज्यों में अवैध धर्मांतरण पर रोक लगाने हेतु कानून बनाए थे तो वहीं, आज सोनिया कांग्रेस उस कानून की विधानसभा में ही भ्रूण हत्या करने पर तुली है। कांग्रेस को अपने इस हिंदू-द्रोही कुकृत्य पर माफी मांगनी चाहिए।

      उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी की इच्छा थी कि भारत की स्वतंत्रता के तुरंत बाद अवैध धर्मान्तरण पर रोक हेतु एक कठोर कानून बने। शायद उसी का परिणाम भी था कि मध्य प्रदेश, उड़ीसा, हिमाचल प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों में इस संबंध में कानून तत्कालीन कांग्रेस ने ही बनाए थे, जिसका विरोध किसी ने भी नहीं किया। किंतु अब जिस प्रकार बिल का विरोध कांग्रेस कर रही है उसने कांग्रेस के मुस्लिम लीगी चेहरे को बेनकाब कर दिया है।

      डॉक्टर जैन ने पूछा कि क्या कांग्रेस को नहीं पता कि अब अवैध धर्मांतरण के सरगनाओं की सांठ-गांठ आतंकियों और राष्ट्र विरोधियों से है? क्या कांग्रेस को यह भी नहीं पता कि अवैध व जबरन धर्मांतरण के कारण जहां हिंदू अल्पसंख्यक हो गए हैं वहां ना उनकी आस्था सुरक्षित है, ना विश्वास, ना बेटियां और ना ही व्यापार? मेवात और कश्मीर घाटी जैसे अनेक हिंदू अल्पसंख्यक क्षेत्रों में जिहादियों के आतंक पर तो कांग्रेस ने आंखें ही मूंद रखी हैं। विश्व हिंदू परिषद मानती है कि पार्टी अपनी इस प्रकार की राष्ट्रघाती व आत्मघाती नीति को अविलंब बदले अन्यथा पहले से ही सिकुड़ती जा रही कांग्रेस की विलुप्त होने में अब और समय नहीं लगेगा।

विहिप के संयुक्त महा-सचिव ने यह भी कहा कि हरियाणा राज्य विधानसभा में बिल को क्रूरता पूर्ण तरीके से फाड़ कर उसने ना सिर्फ पीड़ित हिंदू समाज का अपमान किया है अपितु सदन की मर्यादा भंग कर अलोकतांत्रिक व्यवहार का परिचय भी दिया है। विश्व हिंदू परिषद इसकी घोर निंदा करती है।

भवदीय

जारीकर्ता
विनोद बंसल

राष्ट्रीय प्रवक्ता (विश्व हिंदू परिषद)

@VHPDigital