स्वागतम्

विश्व हिन्दू परिषद् एक परिचय
विश्व हिंदू परिषद (VHP) की स्थापना 29 अगस्त 1964 को श्री कृष्ण जन्माष्टमी के शुभ पर्व पर भारत की संत शक्ति के आशीर्वाद के साथ हुई थी। विहिप का उद्देश्य हिंदू समाज को संगठित करना, हिंदू धर्म की रक्षा करना, और समाज की सेवा करना है। भारत के लाखों गांवों और कस्बों में विहिप को एक मजबूत, प्रभावी, स्थायी, और लगातार बढ़ते हुवे संगठन के रूप में देखा जा रहा है। दुनिया भर में हिंदू गतिविधियों में वृद्धि के साथ, एक मजबूत और आत्मविश्वासी हिंदू संगठन धीरे-धीरे आकार ले रहा है।

स्स्वास्थ्य-शिक्षा, आत्म-सशक्तिकरण, आदि के क्षेत्रो में 4277 से अधिक सेवा परियोजनाओं के माध्यम से विहिप हिंदू समाज की जड़ो को मजबूत कर रहा है। विश्व हिन्दू परिषद् के बढते चरण
विहिप हिंदू समाज में व्याप्त अस्पृश्यता जैसी सामाजिक बुराइयों के उन्मूलन के निरंतर प्रयासों के माध्यम से, समाज को विमुक्त, और अंतर्निहित हिंदू एकता को पुनर्जाग्रत करने के लिए समाज का कायाकल्प कर रही है.

विहिप अपने मूल मूल्यों, विश्वासों और पवित्र परंपराओं की रक्षा के लिए श्री रामजन्मभूमि, श्री अमरनाथ यात्रा, श्री रामसेतु, श्री गंगा रक्षा, गौ रक्षा, हिंदू मठ-मंदिर मुद्दा, ईसाई चर्च द्वारा हिंदुओं का धर्मांतरण, इस्लामी आतंकवाद, बांग्लादेशी मुस्लिम घुसपैठ ,जैसे मुद्दों को उठाकर हिंदू समाज की अदम्य शक्ति के रूप में स्वयं को स्थापित कर रही है.
विहिप का प्रभाव
हिंदू धर्म के सभी संप्रदायों (धर्मों) के सभी धर्माचार्यों का एक मंच पर एकत्रीकरण ।
हिंदू समाज की सेवा करने की प्रवृत्ति विकसित करने के साथ, सेवा परियोजनाओं की विस्तृत श्रृंखला की संस्थापना ।
सामाजिक कुरीतियों के उन्मूलन में अथक प्रयासो के साथ अपार सफलता।
समाज में हिंदू गौरव और एकता की बढ़ी हुवी अभिव्यक्ति।
हाल के दिनों में अपने मूल हिंदू धर्म में लाखों लोगों की स्वैच्छिक घर वापसी या 'परावर्तन'।



Padmshri Dr. R N Singh Ji

पद्मश्री डॉ. आर. एन. सिंह जी

Patna

पटना

President

अध्यक्ष

Advocate Shri Alok Kumar Ji

अधिवक्ता श्री आलोक कुमार जी

New Delhi

नई दिल्ली

Working President

कार्याध्यक्ष

Shri Milind Parande Ji

श्री मिलिंद परांडे जी

New Delhi

नई दिल्ली

Secretary General

महामंत्री

Shri Vinayakrao Ji Deshpande

श्री विनायकराव जी देशपांडे

New Delhi

नई दिल्ली

Organizing Secretary General

महामंत्री-संगठन

Shri Omprakash Ji Singhal

श्री ओमप्रकाश जी सिंघल

New Delhi

नई दिल्ली

Vice President

उपाध्यक्ष

Shri Hukumchand Sawala Ji

श्री हुकुमचंद सांवाला जी

Indore

इंदौर

Vice President

उपाध्यक्ष

Dr. Vijayalakshmi Deshmane Ji

डॉ. विजयलक्ष्मी देशमाने जी

Bengaluru

बेंगलुरु

Vice President

उपाध्यक्ष

Shri Jiveshwar Mishra Ji

श्री जीवेश्वर मिश्र जी

New Delhi

नई दिल्ली

Vice President

उपाध्यक्ष

Shri Champatrai Ji

श्री चंपतराय जी

New Delhi

नई दिल्ली

Vice President

उपाध्यक्ष

Shri G. Gangaraju Ji

श्री जी. गंगाराजू जी

Vijaywada

विजयवाड़ा

Vice President

उपाध्यक्ष

Shri Ashokrao Ji Chowgule

श्री अशोकराव जी चौगुले

Mumbai

मुंबई

Vice President

उपाध्यक्ष

Shri Sushil Ji Saraff

श्री सुशील जी सराफ

Bangkok Thailand

बैंकॉक थाईलैंड

Vice President

उपाध्यक्ष

Shri Ramesh Ji Jain

श्री रमेश जी जैन

Frankfurt Germany

फ्रैंकफर्ट, जर्मनी

Vice President

उपाध्यक्ष

Shri Ramesh Modi Ji

श्री रमेश मोदी जी

Raipur

रायपुर

Chief Treasurer

मुख्य कोषाध्यक्ष

Shri Rameshji Gupta

श्री रमेश जी गुप्ता

Faridabad

फरीदाबाद

Treasurer

कोषाध्यक्ष

Shri Srigopal Jhunjhunwala Ji

श्री श्रीगोपाल झुनझुनवाला जी

Kolkatta

कोलकाता

Treasurer

कोषाध्यक्ष

Dr. Shyamji Agrawal

डॉ. श्यामजी अग्रवाल

Mumbai

मुंबई

Treasurer

कोषाध्यक्ष

Shri Dineshbhai Navadia

श्री दिनेशभाई नवाड़िया जी

Surat

सूरत

Treasurer

कोषाध्यक्ष

Swami Vigyananand Ji Maharaj

स्वामी विज्ञानानंद जी महाराज

New Delhi

नई दिल्ली

Jt. General Secretary

संयुक्त महामंत्री

Dr. Shri Surendra Kumar Ji Jain

डॉ. श्री सुरेंद्र कुमार जी जैन

Rohtak

रोहतक

Jt. General Secretary

संयुक्त महामंत्री

Shri Venkat Koteshwar Rao Ji

श्री वेंकट कोटेश्वर राव जी

New Delhi

नई दिल्ली

Jt. General Secretary

संयुक्त महामंत्री

Shri Sthanumalyan Ji

श्री स्थानुमलयन जी

Bengaluru

बेंगलुरु

Jt. General Secretary

संयुक्त महामंत्री

Shri Bajrang lal Ji Bagra

श्री बजरंग लाल जी बागरा

New Delhi

नई दिल्ली

Jt. General Secretary

संयुक्त महामंत्री

 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 




  • सेवा विभाग (Seva Vibhag) : सेवा प्रकल्प
  • धर्म प्रसार (DharmPrasar):
  • गोरक्षा (GauRaksha)
  • धर्माचार्य सम्पर्क (DharmacharyaSampak)
  • सामाजिक समरसता (SamajikSamrasata)
  • प्रचार प्रसार (Media and Publications)
  • मठ मंदिर (Mutt – Mandir)
  • संस्कृत (Sanskrit)
  • ग्राम शिक्षा मंदिर, कथाकार (Gram shikshamandir, kathakar)
  • अर्चक पुरोहित (Archak – Purohit)
  • धर्मयात्रा महासंघ (Dharma YatraMahasangh)
  • सत्संग (Satsang)
  • बजरंग दल (Bajrang Dal)
  • दुर्गावाहिनी (Durgavahini)
  • मातृशक्ति (Matrushakti)